केसे ???


collage_650_120915015516

 

युं महेंगाई मे ए जिंदगी अब जिए केसे?

थोडी मुक्त थोडी उधार ए जिंदगी  लीए केसे?

 

बागो मे लगे नही अब तक आम,

और पेट्रोल का बढा चला हे दाम,

नशा भी ना हो वो मीक्स शराब अब पीए केसे ?

 

भ्रष्ट हुए हे लोग सारे, ईमान के नाम पे,

छोद दी हे ईज्जत सारी हर बदतर काम मे,

फटी हुई ए बेहाल इज्जत अब सीए केसे ?

 

मुन्नी- शीला के बीना पिक्चर अब चलती हे कहां ?

कदर करे कला की वो बस्ती अब बसती हे कहां ?

रिअल आर्ट ए दुप्लीकेट मार्केट मे अब  जीए केसे ?

 

फीर भी सब खुश हे और खुश ही रहेंगे,

हर दम लोग वो ही जिंदगी जिएंगे,

अच्छी सोच की आशा यहां अब कीए केसे?

 

Written By- विवेक टांक

Advertisements

પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / બદલો )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / બદલો )

Connecting to %s